अमेरिकाबाट संचालित अनलाइन पत्रिका
काठमाडौं: १२:०२ | Colorodo: 00:17

म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

तीर्थराज अधिकारी, लप्सीबोट, गोरखा २०७७ असोज १९ गते १३:२० मा प्रकाशित

१) बनेर पर्दा कति रात आए ?
जाडो र गर्मी कतिले सताए ?
दुखेर छाती कति थर्थराएँ
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

२) जुटाउनैमा कति अन्नपानी
मैले बिताएँ कति जिन्दगानी ?
नाता र गोता कति भेट्न धाएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

३) म दम्भ बोकी कति फतफताएँ ?
बेहोस बन्दै कति मत्मताएँ ?
निलेर आगो कति छटपटाएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

४) कुचाल आए, कति छाल आए ?
ललाट गाल्ने कति काल आए ?
अखण्ड आभा कुन ज्ञान ल्याएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

५) खाना र नाना कति गान गाएँ ?
छाना सजाई कति रङ्ग लाएँ ?
सन्तान माया कति मोह छाएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

६) ज्वाला उठे, कम्पनले सताए
आँधी चले ,त्रास अनेक आए
लुकी छली प्राण बलै बचाएँ
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

७) खाएर गाली कति मुरमुराएँ ?
किटेर दाह्रा कति कट्कटाएँ ?
पाएर ताली कति फुर्फुराएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

८) खेली कतै जात र वर्ण पासा
खेली कतै लिङ्ग र धर्म पासा
भूगोल, भाषा कति गोल खाएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

९) कपाल कालो नव- रङ्ग छाएँ
चढी कतै मोटर छपछपाएँ
भिरेर सिक्री कति सुमसुम्याएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

१०) पढेँ, पढाएँ जति धाक लाएँ
लेखा नमिल्दा उति कर्कराएँ
उदार सत्कर्म कहाँ उदाएँ ?
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

११) बाँचेँ म भन्दै कति वर्ष बाँचेँ ?
अनन्त फुल्ने कुन कर्म साँचेँ ?
विकार, उन्माद, विषाद छाएँ
म सिर्जनामा कति रम्न पाएँ ?

****

लप्सीबोट, गोरखा; हाल: सरस्वतीनगर – काठमाडौँ – ६ ।